Fundamental Rights – Part-3 – तीसरा भाग (अनुच्छेद 12 से 35) – मौलिक अधिकार (Fundamental Rights)

Fundamental Rights - Part-3 - तीसरा भाग (अनुच्छेद 12 से 35) - मौलिक अधिकार (Fundamental Rights)

Fundamental Rights – Part-3 – तीसरा भाग (अनुच्छेद 12 से 35) – मौलिक अधिकार  अधिकार वे सामाजिक दशाएँ हैं, जो व्यक्ति के व्यक्तित्व के विकास के लिए आवश्यक समझी जाती हैं।  हैराल्ड लॉस्की के अनुसार “अधिकार सामाजिक जीवन की वे परिस्थितियां हैं, जो व्यक्ति के व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकास के लिए आवश्यक हैं।” मौलिक अधिकारों… Continue reading Fundamental Rights – Part-3 – तीसरा भाग (अनुच्छेद 12 से 35) – मौलिक अधिकार (Fundamental Rights)

Citizenship – Part-II – दूसरा भाग (अनुच्छेद 5 से 11 तक) – नागरिकता

Citizenship - Part II - Hindi Constitution notes - दूसरा भाग (अनुच्छेद 5 से 11 तक) - नागरिकता

Citizenship – Part II – Hindi Constitution notes – दूसरा भाग (अनुच्छेद 5 से 11 तक) – नागरिकता दूसरा भाग (अनुच्छेद 5 से 11 तक) – नागरिकता (Citizenship) संघात्मक शासन की एक प्रमुख विशेषता दोहरी नागरिकता होती है, परन्तु भारतीय संविधान निर्माताओं ने भारत के लिए एकल नागरिकता अपनायी अर्थात् भारत संघ के नागरिक सिर्फ भारत के… Continue reading Citizenship – Part-II – दूसरा भाग (अनुच्छेद 5 से 11 तक) – नागरिकता

पहला भाग (अनच्छेद 1 से 4 तक) – संघ एवं उसके राज्य क्षेत्र – Hindi Notes

The Union and Its territories - Part-1 (Article 1 to 4) - पहला भाग (अनच्छेद 1 से 4 तक) - संघ एवं उसके राज्य क्षेत्र

The Union and Its territories – Part-1 (Article 1 to 4) – पहला भाग (अनच्छेद 1 से 4 तक) – संघ एवं उसके राज्य क्षेत्र The Union and Its territories – संघ एवं उसके राज्य क्षेत्र महत्वपूर्ण बिंदु  संविधान के अनुच्छेद 1(i) के द्वारा भारत को ‘राज्यों का संघ’ घोषित किया गया है। इस समय… Continue reading पहला भाग (अनच्छेद 1 से 4 तक) – संघ एवं उसके राज्य क्षेत्र – Hindi Notes