Showing: 6 - 10 of 60 RESULTS
CG Rivers (छत्तीसगढ़ की नदियाँ )
CGPSC Notes Chhattisgarh Geography Hindi PDF Notes

CG Rivers (छत्तीसगढ़ की नदियाँ ) – Hindi PDF Notes Download

CG Rivers (छत्तीसगढ़ की नदियाँ) Chhattisgarh state has many rivers (CG Rivers). The Mahanadi is the chief river of the state (CG Rivers). The other main CG rivers are Hasdo (a tributary of Mahanadi), Rihand, Indravati, Jonk, Arpa, and Shivnath. Download PDF notes related to CG Rivers. महानदी (Mahanadi) महानदी (Mahandi) छत्तीसगढ़ प्रदेश की जीवन रेखा। धमतरी जिले के सिहावा …

Bhoramdeo Temple
Chhattisgarh Chhattisgarh history Temple Travel

Bhoramdeo Temple (भोरमदेव) | Chhattisgarh History in Hindi

Bhoramdeo (भोरमदेव) मंदिर भोरमदेव (Bhoramdeo) भगवान शिव को समर्पित हिंदू मंदिरों का एक परिसर जो भारत के छत्तीसगढ़ प्रदेश में स्थित है। इसमें चार मंदिरों का एक समूह शामिल है जो ईंट से बने नवीनतम मंदिरों से एक है। इसका प्रमुख मंदिर पत्थरों से बनाया गया है | कामुक मूर्तियों के साथ स्थापत्य की विशेषताओं …

Naag vansh
Chhattisgarh history

Nag vansh (नागवंश) | Chhattisgarh Hindi history notes

Chhattisgarh में Nag vansh का बहुत पुराण इतिहास है इस लेख  में महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे है। जो आने वाली छत्तीसगढ़ PSC के लिए उपयोगी साबित होगी। छत्तीसगढ़ में नागवंश (Nag vansh) की दो शाखाओं का उल्लेख मिलता है :- कवर्धा में फणिनाग वंश  बस्तर में छिंदकनाग वंश  बस्तर में छिंदक नाग वंश  …

Som vansh (सोमवंश) in CG - Chhattisgarh history notes
Chhattisgarh history

Som vansh (सोमवंश) in CG – Chhattisgarh history notes

Som vansh (सोमवंश) in CG – Chhattisgarh history notes  – छत्तीसगढ़ का प्राचीन इतिहास (सोमवंश ) सोम वंश (som vansh) का शासन छत्तीसगढ़ के कांकेर राज्य में 1125 ई. से 1344 ई. तक था। सिंहराज इस वंश के संस्थापक थे। कुछ इतिहास कार द्वारा माना जाता है की सोम वंश पाण्डु वंश की एक शाखा …

Naal Vansh - नल वंश - CG History - CG Hindi Notes
Chhattisgarh history

Naal Vansh – नल वंश – CG History – CG Hindi Notes

 Naal Vansh – नल वंश – CG History – CG Hindi Notes Chhattisgarh history notes – About Naal Vansh इस वंश के संस्थापक शिशुक (290-330 ई.) था , परन्तु वास्तविक संस्थापक वराहराज (330-370ई.) को माना जाता है। नल वंश का शासन छत्तीसगढ़ में 5 -12 ई. तक था। इनका शासन क्षेत्र बस्तर ( कोरापुट – …